Sunday, 30 August 2015

उपस्थिति में अनुपस्थिति का आभास कर ले..........

उपस्थिति में अनुपस्थिति का आभास कर ले
युद्ध को शीघ्रता से विराम कर ले

झगड़ा नही है कोई मानव धर्म
महाभारत से जाना है धर्म-अधर्म
जीवन के कुछ दिन बेहिसाब मिले है
खुशियों के लिए सौगात मिले है
दो-चार दिनों में सम्पूर्णता का आभास कर ले
उपस्थिति ...............(1)

जीवन है एक पतवार समझो
खेकर सही किनारे लगाकर देखो
मिलती है खुशियों का अनुपम उपहार
कुछ पा लेने और कुछ करने का साहस अपार
थोड़े में ज्यादे का आभास कर ले
उपस्थिति ...............(2)

लक्ष्य दिखे बस अर्जुन जैसा
जो चाहे बन जाए वैसा
मोह-प्रेम और अपने में विश्वास रहे
क्रोध, जलन और भय से दूर रहे
असफलता में सफलता का आभास कर ले
उपस्थिति ................(3)

-प्रभात 

12 comments:

  1. अर्जुन जैसा लक्ष्य हो तो सफलता जरूर मिलती है ...
    भाव पूर्ण हैं सभी छंद ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया

      Delete

  2. Published Ebook with onlinegatha, and earn 85% huge Royalty,send abstract free today: http://onlinegatha.com/

    ReplyDelete
  3. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बाहुत आभारी हूँ!

      Delete
  4. Very nice post ...
    Welcome to my blog on my new post.

    ReplyDelete

अगर आपको मेरा यह लेख/रचना पसंद आया हो तो कृपया आप यहाँ टिप्पणी स्वरुप अपनी बात हम तक जरुर पहुंचाए. आपके पास कोई सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है. आपका सदा आभारी रहूँगा!