Sunday, 6 September 2015

मेरे पिताजी

                           मेरे पिताजी

एक सच्चे, अच्छे और नेक इरादों की पहचान है पिताजी
बचपन से लेकर अब तक सहारे की खदान है मेरे पिताजी

अँधेरे में रोशनी दिखाते
मुसीबत से हर निकालते
भीड़ में हाथ पकड़ते
हर किसी खड़ी मंजिल के आधार है पिताजी
शिक्षक, वैद्य जैसे गुणों के सरताज है पिताजी

असफलता में साथ देते
सुलझे से ख्वाब देते
चेहरों को जो पढ़ लेते
असीम साहस त्याग के परिचायक है पिताजी
प्रीत, लगन, अनुपम प्यार के सार है पिताजी

वृक्ष की तरह छाया देते
फूल की तरह मुझे सींचते
तूफ़ान से हर बचा लेते
जो भी हूँ जैसे भी अब तक उसके कारण है पिताजी
चिंता, क्रोध, असाध्य रोगों के निवारण है पिताजी

संतान सुख के लिए लड़ते
युद्ध रण-भूमि में चल पड़ते
अन्याय कभी सहन न करते
खुद कष्ट सहकर मुझे हंसाने के लायक है पिताजी
मेरे घर से लेकर संसार तक के सहायक है पिताजी

हर समय एक नया सीख देते
परिवर्तन की, है बात करते
असंभव को संभव बनाते
अनुभव, अनुशासन, आचरण के ज्ञान है पिताजी
मुझे लगता है मेरे लिए एक ही भगवान है पिताजी

-प्रभात  

8 comments:

  1. बहुत खूब

    http://hradaypushp.blogspot.com/2014/06/blog-post.html

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आप यहाँ तक पहुंचे ...............

      Delete
  2. अनुभव, अनुशासन, आचरण के ज्ञान है पिताजी
    मुझे लगता है मेरे लिए एक ही भगवान है पिताजी
    सुन्दर शब्द रचना
    माँ पर तो बहुत कविताएँ पढ़ी है पर पिता पर चंद ही शायद पिता पर कम ही लिखा गया हैं
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद

      Delete
  4. पिता को समर्पित रचना बहुत अच्‍छी लगी। धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद

      Delete

अगर आपको मेरा यह लेख/रचना पसंद आया हो तो कृपया आप यहाँ टिप्पणी स्वरुप अपनी बात हम तक जरुर पहुंचाए. आपके पास कोई सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है. आपका सदा आभारी रहूँगा!