Thursday, 22 September 2016

एक बहस

एक बहस
-Google
होते है जब हमले तो दिल्ली इतना रोती है क्यों
कश्मीर की घाटी में ही खून हमेशा बहती हैं क्यों
राजनीति में ताने सीना खूब भाषण बाजी होती है
आकाश में गंगा बहाने की इंद्र तक बातें चलती है
रोज फाईव स्टार होटल में सितारों से बतियातें है
हमारे नेता श्रद्धांजलि तो ट्विटर पर ही दे जाते है
सैनिक गाड़े झंडा भारत की सीमा पर लड़ जाते है
शहीद पिताजी जंग जीतने को अपने बेटे सौंप जाते है 
बावजूद, थोड़ी सांत्वना दे सरकार अब सोती है क्यों
होते है जब हमले तो दिल्ली इतना रोती है क्यों
नहीं मिटे है सबूत अभी भगत सिंह के गोलों की
नहीं टूटे है शब्द वही आजाद पर अपने होठों की
डायर जैसे कायर ने अगर निहत्थों को मारा है
तो उधम सिंह ने भी कायर को घर में जाकर मारा है 
महिलाओं के माथे के सिन्दूर नहीं अगर आ सकते है
तो श्रधांजलि देने के लिए कश्मीर तो पूरा ला सकते है
चलो सौंप दो सैनिक हमें, अगर युद्द से डर लगता हो
और नहीं तो बात साफ करो की जंग शुरू अब होता है
त्यागकर सब कुछ वो तो सीमा पर फूल डाले हँसता है....
बावजूद, बस दिलासा दे कुरबानी भूल जाती हैं क्यों
होते है जब हमले तो दिल्ली इतना रोती है क्यों
कश्मीर की घाटी में ही खून हमेशा बहती है क्यों
प्रभात "कृष्ण"



2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (23-09-2016) को "नेता श्रद्धांजलि तो ट्विटर पर ही दे जाते हैं" (चर्चा अंक-2474) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

अगर आपको मेरा यह लेख/रचना पसंद आया हो तो कृपया आप यहाँ टिप्पणी स्वरुप अपनी बात हम तक जरुर पहुंचाए. आपके पास कोई सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है. आपका सदा आभारी रहूँगा!