Monday, 19 September 2016

आवेश

आवेश
-Google
सबसे अधिक चोट लगती है तो शब्दों से
और सबसे अधिक खुशी होती है तो भी शब्दों से
आवेश में कभी कभार हम कुछ कहते है
रोते भी है पर कहे शब्द वापिस नहीं आते है
क्योंकि सबसे अधिक चोट लगती है तो शब्दों से
टूट जाते है रिश्तों में बंधे कई हाथ
छूट जाते है प्यार भरी जिंदगी की कई रात
दोपहरिया में उदासी, रातों में नींद की उलझन
एक अलग सी छटपटाहट दर्द भरी,
मलहम लगाने की कोशिशें पर 
लगातार गुस्से में आये पसीने से तर होकर
नासूर बनी अंतरात्मा तब तक ठीक नहीं होती
जब तक फिर से वही रिश्ता पनपे न
क्योंकि सबसे अधिक चोट लगती है तो शब्दों से
और सबसे अधिक खुशी होती है तो भी शब्दों से

प्रभात "कृष्ण"

6 comments:

  1. prabhat ji bilkul sahi keha..shbdon mein admay shakti hai
    iss liye prayog bhi sarthak hi hona chahiye

    ReplyDelete
    Replies
    1. पारूल जी, सबसे पहले आपका आभार....आप यहाँ तक आयी और मुझसे जुड़कर यहाँ मेरा हौसला बढ़ाया. शब्दों में शक्ति तो है ही, जिन्दगी का अंत और शुरुआत दोनों ही इसी से होता है!!!!

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (21-09-2016) को "एक खत-मोदी जी के नाम" (चर्चा अंक-2472) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. एक दोराहे पर खड़ा मन ....असमंजस में

    ReplyDelete

अगर आपको मेरा यह लेख/रचना पसंद आया हो तो कृपया आप यहाँ टिप्पणी स्वरुप अपनी बात हम तक जरुर पहुंचाए. आपके पास कोई सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है. आपका सदा आभारी रहूँगा!