Saturday, 26 March 2016

मैं कितने सीते खोता जाऊं

अविश्वास न रहे तेरे मन में, मैं कितने सीते खोता जाऊं
अपनी मर्यादा की रक्षा में, हिंसा कैसे फैलाता जाऊं
फूल नहीं है जब देने को इतने, काटों तुम चुभते जाओ
तुम भी मुझको चुभाते जाओ, मैं भी तुमको चुभाता जाऊं
अन्धकार में दीपक जलाकर अँधेरा कैसे मिटाता जाऊं
तुम रोजाना आग लगाते जाओ, मैं दीपक जलाते जाऊं  
अचरज है मुझको ताज तुम्हारी ईटें कैसे खड़ी हुयी है
तुम मुमताज की याद बताते जाओं, मैं हिंसा बताता जाऊं
प्रेम के सौदागर बनकर मुझसे, तुमने छीना है लाज मेरा  
तुम सबको मजबूरी बताते जाओ, मैं असहाय बना जाऊं

-प्रभात 

8 comments:

  1. जय मां हाटेशवरी...
    आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये दिनांक 27/03/2016 को आप की इस रचना का लिंक होगा...
    चर्चा मंच[कुलदीप ठाकुर द्वारा प्रस्तुत चर्चा] पर...
    आप भी आयेगा....
    धन्यवाद...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार!

    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

    ReplyDelete
  3. सार्थक प्रस्तुति...

    ReplyDelete

अगर आपको मेरा यह लेख/रचना पसंद आया हो तो कृपया आप यहाँ टिप्पणी स्वरुप अपनी बात हम तक जरुर पहुंचाए. आपके पास कोई सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है. आपका सदा आभारी रहूँगा!