Friday, 3 July 2015

पता है प्रेम में ....

-Google

पता है प्रेम में डूबा हूँ कैसे
जब जानोगी तो आँखे भीग जायेंगे  
बारिश की पहली आगाज में
बादल भी हवा में बहना भूल जायेंगे
कहते है प्रिये समंदर की लहरे दूर तक चली आती हैं
हमें मालूम बस चले कभी कोई बाधा
हम लहरों से भी तुम्हे खींच ले आयेंगे

-Google
तबस्सुम प्रीत में लिपटा है ऐसे
चाहकर भी कभी न भूल पायेंगे
शबनम को हवा जब चाहे गिरा दे
मगर प्रभात प्रेम में पंखुड़ियों से लिपटे पायेंगे
कहो तो प्रिये दिल से कल तुम मिलने आ रही ही
जुनून होगा मिलने का इस कदर 
किसी और में भी तुम्हारी सूरत नजर आयेंगे


-प्रभात  

10 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (05-07-2015) को "घिर-घिर बादल आये रे" (चर्चा अंक- 2027) (चर्चा अंक- 2027) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  2. प्रभात भाई!
    प्रेम को सही जिया है...अद्भूत।

    ReplyDelete
  3. प्रेम में हर किसी की रूरत एक सूरत ही नज़र आती है ...

    ReplyDelete
  4. बहुत उम्दा कविता
    वाह

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया

      Delete

अगर आपको मेरा यह लेख/रचना पसंद आया हो तो कृपया आप यहाँ टिप्पणी स्वरुप अपनी बात हम तक जरुर पहुंचाए. आपके पास कोई सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है. आपका सदा आभारी रहूँगा!