Monday, 23 September 2019

मुझे मालूम है मोहब्बत में किसी की खुशामद करना


मुझे मालूम है मोहब्बत में किसी की खुशामद करना
और, गर मकसद न हो कुछ तो इबादत करना

मगर किसी की आंखों का तारा बनना नहीं मुझे
मुझे आता है आसमान का सितारा बनकर रहना

3 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (25-09-2019) को    "होगा दूर कलंक"  (चर्चा अंक- 3469)     पर भी होगी। --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
     --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर सृजन सर
    सादर

    ReplyDelete
  3. Very good write-up. I certainly love this website. Thanks!
    hinditech
    hinditechguru

    make money online

    ReplyDelete

अगर आपको मेरा यह लेख/रचना पसंद आया हो तो कृपया आप यहाँ टिप्पणी स्वरुप अपनी बात हम तक जरुर पहुंचाए. आपके पास कोई सुझाव हो तो उसका भी स्वागत है. आपका सदा आभारी रहूँगा!